Tar Kumpan Yojana जानिए किसानों के लिए तार कुम्पन सब्सिडी योजना- आवेदन प्रक्रिया, पात्रता?

किसानों को जंगली और घरेलू जानवरों से अपनी फसलों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए अपने खेतों की बाड़ लगानी पड़ती है। लेकिन चूंकि बाड़ लगाना महंगा है, इसलिए किसान अपनी फसलों की सुरक्षा नहीं कर सकते। इसलिए महाराष्ट्र सरकार की ओर से किसानों के लिए तार कुम्पन सब्सिडी योजना शुरू की गई है। महाराष्ट्र सरकार कृषि के लिए कांटेदार तार की बाड़ के निर्माण के लिए 90% सब्सिडी प्रदान कर रही है।किसान इस योजना के तहत लाभ उठा सकते हैं। तार कुम्पन योजना का लाभ किसान कैसे उठा सकते हैं, किसानों को कहां आवेदन करना होगा। साथ ही आवेदन करने के लिए किन दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी. आइए विस्तार से जानते हैं कि योजना को लागू करने का मुख्य उद्देश्य क्या है…

तार बंदी योजना का पंजीकरण 2002 से शुरू किया गया है और किसान कम लागत पर अपने खेत के चारों ओर तार की बाड़ लगा सकते हैं और यह सब्सिडी निम्नलिखित चार श्रेणियों में दी जा रही है।

जानिए किसानों के लिए तार कुम्पन सब्सिडी योजना- आवेदन प्रक्रिया

यदि क्षेत्रफल एक से दो हेक्टेयर है तो 90 प्रतिशत
यदि क्षेत्रफल दो से तीन हेक्टेयर है तो 60 प्रतिशत
यदि क्षेत्रफल तीन से पांच हेक्टेयर है तो 50 प्रतिशत
पांच हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल वाले किसानों को 40 फीसदी तक सब्सिडी मिलेगी.
तो इस प्रकार की सब्सिडी किसानों को अधिकतम 70 प्रतिशत तक मिलेगी और यदि आप भी इस ताराकुम्पन सब्सिडी योजना में आवेदन करना चाहते हैं, तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

Main objective of Tarbandi Subsidy Scheme?

तारबंदी सब्सिडी योजना का मुख्य उद्देश्य?

किसान मित्र तार बंदी सब्सिडी योजना महाराष्ट्र सरकार द्वारा लागू की गई है इस योजना के लिए आपको 90 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है। किसान मित्रों तार बंदी सब्सिडी योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि आप अपने खेत को घेरकर जंगली जानवरों से अपनी फसलों को होने वाले नुकसान को रोक सकें इसलिए यह योजना किसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण योजना है।

जानिए किसानों के लिए तार कुम्पन सब्सिडी योजना- आवेदन प्रक्रिया

किसान मित्र तार बंदी सब्सिडी योजना महाराष्ट्र सरकार द्वारा लागू की गई है इस योजना के लिए आपको 90 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है। किसान मित्रों तार बंदी सब्सिडी योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि आप अपने खेत को घेरकर जंगली जानवरों से अपनी फसलों को होने वाले नुकसान को रोक सकें इसलिए यह योजना किसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण योजना है।

Terms and Conditions

तार बाड़ योजना में भाग लेने के लिए नियम और शर्तें पढ़ें

  • इस योजना के तहत लाभ चाहने वाले किसानों की उक्त भूमि पर कोई अतिक्रमण नहीं होना चाहिए।
  • किसानों द्वारा चयनित क्षेत्र जंगली जानवरों की प्राकृतिक सीमा में नहीं होना चाहिए।
  • समिति को यह संकल्प पत्र प्रस्तुत करना होगा कि अगले दस वर्षों तक उक्त भूमि का उपयोग नहीं बदला जा सकेगा।
  • जो किसान योजना के तहत लाभ लेना चाहते हैं, उन्हें अपने खेतों में जंगली जानवरों द्वारा फसलों को होने वाले नुकसान के संबंध में ग्राम स्थिति विकास समिति/संयुक्त वन प्रबंधन समिति का संकल्प पत्र संलग्न करना होगा।
  • तदनुसार, वन रेंज अधिकारी से एक प्रमाण पत्र आवेदन जमा करना होगा।
  • तार बाड़ लगाने की योजना के तहत किसानों को 30 खंभों के साथ 2 क्विंटल कंटीले तार 90 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • बाकी 10 फीसदी रकम किसानों को खुद चुकानी होगी.

How to Apply for Tar Kumpan Yojana

तार कुम्पन योजना के लिए कहां आवेदन करें

यदि किसान तार बाड़ योजना 2023 के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें पंचायत समिति में आवेदन करना होगा।
किसान को निर्धारित प्रारूप में आवेदन आवश्यक दस्तावेजों के साथ संबंधित संवर्ग विकास अधिकारी पंचायत समिति को जमा कराना होगा।
इसके बाद लकी ड्रा पद्धति से उसका चयन किया जाएगा और आपका नंबर चयनित होने पर आपको जल्द ही सूचित कर दिया जाएगा।

जानिए किसानों के लिए तार कुम्पन सब्सिडी योजना- आवेदन प्रक्रिया

Required Documents for Sheti Tar Kumpan Yojana

आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज?

  • सत्रह परिच्छेद
  • ग्राम पैटर्न 8 अ
  • जाति प्रमाण पत्र
  • किसान का आधार कार्ड
  • एक से अधिक खेत मालिक होने पर आवेदक को अधिकृत करने वाला प्राधिकार पत्र
  • ग्राम पंचायत का प्रमाण पत्र
  • समिति का संकल्प और तदनुसार वन रेंज अधिकारी का प्रमाण पत्र

Benefits of Sheti Tar Kumpan Yojana

खेत की तार बाड़ लगाने की योजना का लाभ उठाने के लिए यहां देखें।

लाभ की प्रकृति

  • सामान्य तौर पर दो क्विंटल कंटीले तार और 30 खंभे 90 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध कराए जाएंगे। शेष 10 प्रतिशत राशि किसानों को स्वयं चुकानी होगी।
  • खुली श्रेणी के किसानों को 75 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। तो इसके लिए लाभार्थी की प्रकृति यह है कि 75 प्रतिशत सब्सिडी के ऊपर लगभग 200 किलोग्राम कंटीले तार और 30 खंभे दिए जाएंगे।
  • शेष 25 प्रतिशत का भुगतान किसानों को स्वयं करना होगा।
  • इस योजना के लिए आवेदन कृषि विभाग पंचायत समिति से उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *